मैं तो लाई हूँ दाने अनार के मेरी मैया के नौ दिन बहार के भजन लिरिक्स

0
14105
बार देखा गया
मैं तो लाई हूँ दाने अनार के मेरी मैया के नौ दिन बहार के भजन लिरिक्स

मैं तो लाई हूँ दाने अनार के,
मेरी मैया के नौ दिन बहार के।।



टैंट वाले तेरा क्या जाएगा-३,

मेरी मैया का पंडाल बन जाएगा,
मै तो लाई हूँ दाने अनार के,
मेरी मैया के नौ दिन बहार के।।



बिजली वाले तेरा क्या जाएगा-३,

मेरी मैया का भवन जग मगाएगा,
मै तो लाई हूँ दाने अनार के,
मेरी मैया के नौ दिन बहार के।।



हलवाई तेरा क्या जाएगा-३,

मेरी मैया का प्रसाद बन जाएगा,
मै तो लाई हूँ दाने अनार के,
मेरी मैया के नौ दिन बहार के।।



ढोल वाले तेरा क्या जाएगा-३,

मेरी मैया का भजन बन जाएगा,
मै तो लाई हूँ दाने अनार के,
मेरी मैया के नौ दिन बहार के।।



फूल वाले तेरा क्या जाएगा-३,

मेरी मैया का हार बन जाएगा,
मै तो लाई हूँ दाने अनार के,
मेरी मैया के नौ दिन बहार के।।



मै तो लाई हूँ दाने अनार के,

मेरी मैया के नौ दिन बहार के,
मेरी मैया के नौ दिन बहार के।।


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम