खाटू के बाबा श्याम जी मेरी रखोगे लाज भजन लिरिक्स

0
829
बार देखा गया
खाटू के बाबा श्याम जी मेरी रखोगे लाज भजन लिरिक्स

खाटू के बाबा श्याम जी,
मेरी रखोगे लाज,
रखोगे लाज मेरी,
रखोगे लाज मेरी,
मीरा के घनश्याम जी,
मेरी रखोगे लाज।।



एक भरोसो थारो है,

तू ही पत राखनहारो है,
छोटो सो मेरो काम जी,
मेरी रखोगे लाज,
खाटु के बाबा श्याम जी,
मेरी रखोगे लाज।।



टेर सुनो सांवल सा मेरी,

धीर बंधाओ करो ना देरी,
दुःख हर्ता थारो नाम जी,
मेरी राखोगे लाज,
खाटु के बाबा श्याम जी,
मेरी रखोगे लाज।।



भीख दया की कब दोगे,

मेरी सुध प्रभु कब लोगे,
पुजू में थारा पाव जी,
मेरी राखोगे लाज,
खाटु के बाबा श्याम जी,
मेरी रखोगे लाज।।



‘काशी’ चरणा को चेरो,

जीवन सफल बना मेरो,
था बिन कित आराम जी,
मेरी राखोगे लाज,
खाटु के बाबा श्याम जी,
मेरी रखोगे लाज।।



खाटू के बाबा श्याम जी,

मेरी रखोगे लाज,
रखोगे लाज मेरी,
रखोगे लाज मेरी,
मीरा के घनश्याम जी,
मेरी रखोगे लाज।।

स्वर – संजय मित्तल जी।
प्रेषक – Vijay vats
7015809310


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम