अरे कमर कसी तलवार धाड़वी जेसल धाड़वी भजन लिरिक्स

1
318
बार देखा गया
अरे कमर कसी तलवार धाड़वी जेसल धाड़वी भजन लिरिक्स

अरे कमर कसी तलवार धाड़वी,

दोहा – हालो हरजी देवरे,
ने मिलसी रामापीर,
दुखिया ने सुखिया करे,
बाबो साझा करे शरीर।

अरे कमर कसी तलवार धाड़वी,
कमर कसी तलवार रे,
कोई सोवन कटार हाथ में,
जैसल के रे -२ हो… हो…जी।।



आयो विकट तूफ़ान गांव में,

आयो विकट तूफ़ान रे,
पिनहारिया रे घड़ा फोडिया,
पनघट पे रे -२ हो… हो…जी।।

अरे सब सु मिठो बोल भाईडा,
सब सु मिठो बोल रे,
दुनिया में थोड़ो जीवनो,
पंचीडा रे-२ हो… हो…जी।।



अरे सामे मिलगी सांड भुरणी,

सामे मिलगी रे,
जिन ऊपर बेठियो बानियो,
मारु ला रे-२ हो… हो…जी।।

धन दौलत लेजा धाड़वी,
धन दौलत लेजा रे,
दुनिया में जीवतो छोड़ दे,
धाडेचा रे-२ हो… हो…जी।।



अरे लेवा मिनक ने मार बाणिया,

लेवा मिनक ने मार रे,
मैं जैसल कहिजु धाड़वी,
मानियोडो रे-२ हो… हो…जी।।

करवा लागो दान बानियो,
करवा लागो दान रे,
कोई साध विरामन जानियो थे,
माने रे-२ हो… हो…जी।।



अरे बुढ़ा मायड़ बाप धाड़वी,

बुढ़ा मायड़ बाप रे,
मारे नैना नैना टाबरिया,
नगरी में रे, हो… हो…जी।।

बुढ़ा जोवे वाट धाड़वी,
बुढ़ा जोवे वाट रे,
साधु उठावे कामली,
मेला में रे-२ हो… हो…जी।।



अरे सब सु मिठो बोल भाईडा,

सब सु मिठो बोल रे,
दुनिया में थोड़ो जीवनो,
पंचीडा रे-२ हो… हो…जी।।

अरे करवा लागो याद बानियो,
करवा लागो याद रे,
दुर्भल रो हेलो सांबलो,
अनदाता रे-२ हो… हो…जी।।



काना पड़ी आवाज भगत री,

काना पड़ी आवाज रे,
चौपट ने आगी मेलदी,
बाबाजी वो-२ हो… हो…जी।।

होई लीले अस्वार बापजी,
होई लीले अस्वार रे,
बानिया री वारा चढ़ गया,
बाबाजी रे,
सेठा री वारा चढ़ गया,
बाबाजी रे, हो… हो…जी।।



अरे पाछो मुड़ने देख धाड़वी,

पाछो मुड़ने देख रे,
आ हीरा भरियोड़ी वालसड़ी,
लुटे नी रे-२ हो… हो…जी।।

अरे सब सु मिठो बोल भाईडा,
सब सु मिठो बोल रे,
दुनिया में थोड़ो जीवनो,
पंचीडा रे-२ हो… हो…जी।।



अरे देवी कला बार्ताए बापजी रे,

देवी कला बार्ताए रे,
जैसल ने आंधो कर दियो,
बाबाजी रे -२ हो… हो…जी।।

अरे लेले तीन तलाक धाड़वी,
लेले तीन तलाक रे,
नहीं साध वीरमण लूट सी,
दुनिया में रे-२ हो… हो…जी।।



अरे सब सु मिठो बोल भाईडा,

सब सु मिठो बोल रे,
दुनिया में थोड़ो जीवनो,
पंचीडा रे-२ हो… हो…जी।।

अरे कमर कसी तलवार धाड़वी,
कमर कसी तलवार रे,
कोई सोवन कटार हाथ में,
जैसल के रे -२ हो… हो…जी।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – अजय प्रजापत जी।
Ph. 7733864708


1 टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम