प्रथम पेज आरती संग्रह

आरती संग्रह

Aarti Sangrah

माता पार्वती जी की आरती

माता पार्वती जी की आरती जय पार्वती माता जय पार्वती माता ब्रह्म सनातन देवी शुभफल की दाता ।। अरिकुलापदम बिनासनी जय सेवक्त्राता, जगजीवन जगदंबा हरिहर गुणगाता ।। सिंह को...

ॐ जय श्री राधा राधे कृष्ण आरती

ॐ जय श्री राधा, ॐ जय श्री कृष्णा, श्री राधा कृष्णाय नमः, श्री राधा कृष्णाय नमः।।चन्द्रमुखी चंचल चितचोरी, सुघड़ सांवरा सूरत भोरी, श्यामा श्याम एक सी जोरि, श्री...

श्री रामचन्द्र जी की आरती

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन हरण भवभय दारुणं । नवकंज लोचन, कंजमुख, करकुंज, पदकंजारुणं॥ श्री राम जय जय राम।कंदर्प अगणित अमित छबि, नवनीलनीरद सुन्दरं । पट पीत...

जय कपि बलवंता प्रभु जय कपि बलवंता आरती

जय कपि बलवंता, प्रभु जय कपि बलवंता, सुर नर मुनिजन वंदित, सुर नर मुनिजन वंदित, पदरज हनुमंता, जय कपि बळवंता, प्रभु जय कपि बलवंता।।प्रौढ़ प्रताप पवनसुत,...

जय भूतनाथ बाबा आरती लिरिक्स

जय भूतनाथ बाबा, श्लोक - करपूर गौरम करूणावतारम, संसार सारम भुजगेन्द्र हारम, सदा वसंतम हृदयारविंदे, भवम भवानी सहितं नमामि।।जय भूतनाथ बाबा, जय भुतनाथ बाबा, तुमको निशदिन ध्यावत, सुर नर मुनि...

सांवल सा गिरधारी भला हो रामा सांवल सा गिरधारी लिरिक्स

सांवल सा गिरधारी, भला हो रामा सांवल सा गिरधारी, भरोसो भारी, हरी बिना मोरी, गोपाल बिना मोरी, सांवल सेठ बिना मोरी, कुण खबर लेवे म्हारी, सांवल सा गिरधारी।।लटपट पाग केशरिया...

प्रियाकांतजू की आरती उतारो हे अली लिरिक्स

प्रियाकांतजू की आरती उतारो हे अली, सोहे यशोदा को लाल किरत भानु की लली, प्रियाकांतजू की आरती उतारो हे अली।।भावे जलज कुसुम चित आकर्षक छवि, लाजे कोटि...

श्री भागवत भगवान की है आरती हिंदी लिरिक्स

श्री भागवत भगवान की है आरती, पापियो को पाप से है तारती।।ये अमर ग्रंथ ये मुक्ति पन्थ, ये पंचम वेद निराला, नव ज्योति जगाने...

आशुतोष शशाँक शेखर शिव स्तुति लिरिक्स

आशुतोष शशाँक शेखर, चन्द्र मौली चिदंबरा, कोटि कोटि प्रणाम शम्भू, कोटि नमन दिगम्बरा।।निर्विकार ओमकार अविनाशी, तुम्ही देवाधि देव , जगत सर्जक प्रलय करता, शिवम सत्यम सुंदरा।।निरंकार स्वरूप कालेश्वर, महा योगीश्वरा , दयानिधि...

देवि सुरेश्वरि भगवति गंगे श्री गंगा स्त्रोतम

देवि सुरेश्वरि भगवति गंगे, त्रिभुवनतारिणि तरलतरंगे, शंकरमौलिविहारिणि विमले, मम मतिरास्तां तव पदकमले, देवि सुरेश्वरि भगवति गंगे।।भागीरथिसुखदायिनि मातस्तव, जलमहिमा निगमे ख्यातः, नाहं जाने तव महिमानं, पाहि कृपामयि मामज्ञानम्, देवि सुरेश्वरि भगवति गंगे।।हरिपदपाद्यतरंगिणि गंगे, हिमविधुमुक्ताधवलतरंगे, दूरीकुरु...

कृष्ण भजन लिरिक्स

फ़िल्मी तर्ज भजन

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।