बालाजी कद आवेगा तेरा भक्त जोत प बैठा हो

बालाजी कद आवेगा तेरा भक्त जोत प बैठा हो

बालाजी कद आवेगा,
तेरा भक्त जोत प बैठा हो।।



ऊँ हनुमते बोलण लागया,

तेरे भवन में डोलण लागया,
तुं कदसी दर्श दिखावेगा,
तेरा भक्त जोत प बैठा हो,
बालाजी कद आवेंगा,
तेरा भक्त जोत प बैठा हो।।



राम नाम की चादर ले रहया,

बाबा ध्यान तेरे में दे रया,
मेरः कदसी मस्ती ठावेगा,
तेरा भक्त जोत प बैठा हो,
बालाजी कद आवेंगा,
तेरा भक्त जोत प बैठा हो।।



तेरे नाम की खटक लाग री,

मोह माया या कती भाग री,
और कितणा अजमावेगा,
तेरा भक्त जोत प बैठा हो,
बालाजी कद आवेंगा,
तेरा भक्त जोत प बैठा हो।।

कुछ भी खरीदें डिस्काउंट पर


सुमेर भक्त की लगन देख ले,

मन्नै भजन में मगन देख ले,
कितणे जाप करावेगा,
तेरा भक्त जोत प बैठा हो,
तेरा भक्त जोत प बैठा हो,
बालाजी कद आवेंगा,
तेरा भक्त जोत प बैठा हो।।



बालाजी कद आवेगा,

तेरा भक्त जोत प बैठा हो।।

गायक – नरेन्द्र कौशिक।

भजन प्रेषक – राकेश कुमार जी,
खरक जाटान(रोहतक)
( 9992976579 )


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें